Jun 15, 2024, 16:49 IST

एण्डटीवी के कलाकारों ने की अपने पिता की तारीफ, जिन्हें वे अपना रोल माॅडल मानते हैं!

एण्डटीवी के कलाकारों ने की अपने पिता की तारीफ, जिन्हें वे अपना रोल माॅडल मानते हैं!


फादर्स डे एक खास मौका होता है। इस दिन उन बेमिसाल पुरुषों का सम्मान किया जाता है, जो अपने प्यार, मार्गदर्शन और अटूट सहयोग से हमारे जीवन को आकार देते हैं। यह दिन उन पिताओं की सराहना करने के लिये होता है, जो हमारे लिए ढेरों त्याग करते हैं, हमें बहुमूल्य ज्ञान देते हैं और हमारे जीवन को सुखद बनाने के लिये लगातार डटे रहते हैं। हममें से कई लोग अपने पिता को अपने रोल माॅडल के तौर पर देखते हैं। इंटरनेशनल फादर्स डे पर एण्डटीवी के एक्टर्स ने दिल को छू लेने वाले अपने संदेश में एक पिता और उनकी संतानों के बीच के गहरे भावनात्मक सम्बंध की मार्मिक झलक दी है। यही भावना हमारे जैसे कई लोगों के मन में होती है। एण्डटीवी के इन कलाकारों में शामिल हैं- नेहा जोशी (‘अटल’ की कृष्णा देवी वाजपेयी), योगेश त्रिपाठी (‘हप्पू की उलटन पलटन’ के दरोगा हप्पू सिंह) और शुभांगी अत्रे (‘भाबीजी घर पर हैं’ की अंगूरी भाबी)। अटल में कृष्णा देवी वाजपेयी की भूमिका निभा रहीं नेहा जोशी ने बताया, ‘‘मेरे पिता एक थियेटर आर्टिस्ट हैं। मैंने बचपन में उन्हें स्टेज पर परफाॅर्म करते देखा है और उनसे एक्टिंग के बारे में बहुत कुछ सीखा है। मैं आज जो कुछ भी हूँ, उसमें मेरे पिता का बहुत बड़ा हाथ है। वह मेरे साथ हमेशा एक चट्टान की तरह खड़े रहे। आॅडिशंस, रिजेक्शंस और खुद पर शक होने पर मुझे सबसे ज्यादा ताकत उन्हीं से मिली। उन्होंने हमेशा मुझे सहयोग दिया और अपनी आकांक्षाएं पूरी करने के लिये प्रेरित किया। उन्होंने मुझे कई चुनौतियों और अनिश्चितताओं से गुजरते देखा, लेकिन मेरी लगन और जुनून भी उनके सामने थी। उन्हें सिर्फ मुझे मिली भूमिकाओं पर गर्व नहीं है, बल्कि मेरी ताकत और दृढ़ता पर भी उन्हें नाज़ है। उनकी चतुराई और मार्गदर्शन, खासकर कड़े फैसले लेते वक्त अनमोल रहा। डैड आप मेरे हीरो और रोल माॅडल हो। आपके प्यार, मजबूती और मेरे ऊपर अटूट विश्वास ने मुझे आज यह मुकाम दिया है और मैं आपका गौरव बढ़ाने की कोशिश करती रहती हूँ। एक आदर्श पिता बनने के लिये आपका धन्यवाद।’’

‘हप्पू की उलटन पलटन‘ के दरोगा हप्पू सिंह, ऊर्फ योगेश त्रिपाठी ने बताया, ‘‘मेरे पिता ने मुझे हमेशा खुद के साथ न्याय करने और अपनी अनोखी खूबियों को अपनाने की प्रेरणा दी है। उन्होंने मुझे खुद से प्यार करने और विनम्र रहने जैसे जरूरी गुण दिये हैं। और यही गुण मेरे चरित्र का आधार हैं। मैं आज जो कुछ भी हूँ, वह बनाने के लिये मैं उनका बेहद आभारी हूँ। मेरे ऊपर उनका प्रभाव असीम है। वह मजबूत शैक्षणिक पृष्ठभूमि से आते हैं, लेकिन उन्होंने कठोर होने तथा प्यार देने के बीच सही बैलेंस बनाया है। उन्होंने मुझे कड़ी मेहनत, अनुशासन और चीजों की असली कीमत समझने का महत्व बताया। और यह सबक मेरी निजी तथा पेशेवर तरक्की में हमेशा काम आए। मैं यही गुण अपने बच्चों को देने की कोशिश करता हूँ। मैं चाहता हूँ कि वे एक रोल माॅडल के तौर पर मुझे उसी तरह देखें, जैसे कि मैं अपने पिता को देखता हूँ। इस खास दिन, मैं सभी पिताओं को हार्दिक शुभकामनाएं देता हूँ। उनके प्यार, मार्गदर्शन और अटूट सहयोग की कोई तुलना नहीं हो सकती। अपने बच्चों के लिये एक पिता के असीम प्यार का मुकाबला किसी से नहीं हो सकता। और आज हम उस असाधारण सम्बंध का उत्सव मनाकर सम्मान दे रहे हैं।’’ ‘भाबीजी घर पर हैं‘ की अंगूरी भाबी, यानि शुभांगी अत्रे ने बताया, ‘‘ऐसे ढेरों पल हैं, जब मेरे पिता ने मुझे खास होने का एहसास दिया और मेरे रोल माॅडल के रूप में अपनी जगह और मजबूत की। मैं एक छोटे शहर की रहने वाली हूँ और इसलिये जब मैंने एक्टर बनने का सपना देखा, तब सभी को संदेह था। लेकिन मेरे पिता ने मुझ पर भरोसा किया और अपना सपना पूरा करने में मेरी मदद की। हम सिर्फ बहनें थीं और पिताजी ने हमें बड़ा किया, हमारे सपनों का समर्थन किया। उन्होंने दिखाया कि बच्चों की जिन्दगी को आकार देने में पैरेंट्स की भूमिका कितनी महत्वपूर्ण होती है। मैं पिताजी से सीखे सबक अपनी बेटी को भी देती हूँ। एक यादगार पल तब का है, जब मैंने बोर्ड परीक्षाओं में अच्छे अंक पाये थे और दूसरा तब का है, जब पिताजी ने मुझे पहली बार स्क्रीन पर देखा था। उस वक्त उन्हें जो गर्व हुआ और जैसा समर्थन उन्होंने किया, वह सचमुच प्रेरक था। साधारण गतिविधियों को मायने रखने वाले और सिखाने वाले अनुभवों में बदल देने की उनकी कला ने मुझे हमेशा प्रेरित किया है। अपने काम के लिये उनके समर्पण और हमारे परिवार के लिये उनकी अटूट प्रतिबद्धता ने मुझे जिम्मेदारी और प्यार के सही मायने समझाए हैं। इस खास दिन पर मैं अपने पिता का सम्मान करती हूँ, क्योंकि वह मेरे मार्गदर्शक, शिक्षक और अटूट सहयोगी बने रहे। वह सिर्फ एक पैरेंट नहीं, बल्कि मेरे हीरो और रोल माॅडल हैं। हैप्पी फादर्स डे।’’ इन एक्टर्स की पेशेवर जिन्दगी पर उनके पिता का कैसा असर रहा है, यह बताने वाली कहानियाँ हम सभी के लिये प्रेरणादायक और मनोबल बढ़ाने वाली हैं। 

अपने पसंदीदा शोज के और भी रोमांचक एपिसोड्स देखने के लिए तैयार हो जाइए! अपने चहेते कलाकारों को देखना न भूलें, ‘अटल’ में रात 8ः00 बजे, ‘हप्पू की उलटन पलटन’ में रात 10ः00 बजे और ‘भाबीजी घर पर हैं’ में रात 10ः30 बजे, हर सोमवार से शुक्रवार सिर्फ एण्डटीवी पर! सारा ड्रामा और मस्ती देखने के लिये हमारे साथ बने रहिये और अपने चहेते किरदारों से जुड़े रहिये। अपने पसंदीदा शोज के मजे लीजिये और इन प्रतिभाशाली कलाकारों और उन्हें आकार देने वाले उनके पिताओं की जिन्दगी की झलक देखिये।

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement